सीधा वेब प्रसारणः रत्नावली - हिन्दी अनुवाद

परम पावन दलाई लामा एशिया के एक समूह के अनुरोध पर २९ अगस्त से १ सितम्बर तक मुख्य तिब्बती मंदिर में नागार्जुन के मध्यमक के रत्नावली पर अपना प्रवचन देंगे । परम पावन तिब्बती में बोलेंगे जिसका हिन्दी अनुवाद उपलब्ध होगा ।


सभी समय भारतीय मानक समय (आईएसटी = जीएमटी + ५.३०)

अगस्त २९: प्रातः  ८ :०० - मध्याह्न  १२ - :००  आईएसटी
अगस्त ३०: प्रातः  ८ :०० -   मध्याह्न  १२ - :००   आईएसटी
अगस्त ३१:  प्रातः  ८ :०० -  मध्याह्न  १२ - :००   आईएसटी
सितंबर   १: प्रातः  ८ :०० -   प्रातः     १० - :३०    आईएसटी

 

नवीनतम समाचार

अवलोकितेश्वर अनुज्ञा, दीर्घायु सर्मपण और कालचक्र अभिषेक का समापन
14 जनवरी 2017
बोधगया, बिहार, भारत, १४ जनवरी २०१७- आज प्रातः जब परम पावन दलाई लामा ने कालचक्र मंदिर से नमज्ञल विहार की एक छोटी यात्रा तय की, तो पुनः एक बार उऩकी एक झलक पाने की आशा में दो या तीन मीटर गहन का जनमानस मार्ग पर पंक्तिबद्ध था।

कालचक्र अभिषेक का तीसरा व अंतिम दिन
January 13th 2017

कालचक्र अभिषेक का दूसरे दिन - शिशु प्रवृत्ति के सात अभिषेक
January 12th 2017

कालचक्र अभिषेक का प्रथम दिवस - मंडल में प्रवेश
January 11th 2017

कालचक्र अभिषेक के लिए शिष्यों की तैयारी
January 10th 2017

खोजें