चित्त शोधन

चित्त शोधन के आठ पदों में से पहले सात पदों में उन अभ्यासों की बात है जो कि मार्ग के उपायों को विकसित करने की बात करते हैं जैसे करुणा, परोपकार, बुद्धत्व प्राप्त करने का उद्देश्य इत्यादि। आठवें पद में उन अभ्यासों की बात हुई है जो कि मार्ग के प्रज्ञा अंग के विकास की ओर निर्दिष्ट है।

-    पद १

-    पद २

-    पद ३

-    पद ४

-    पद ५ तथा ६

-    पद ७

-    पद ८

-    प्रबुद्धता के लिए चित्तोत्पाद

चित्त शोधन के आठ पदों में से प्रथम तीन पदों की व्याख्या परम पावन दलाई लामा ने 8 नवम्बर 1998 में वाशिंगटन डी सी में दी। बचे पाँच पद परम पावन दलाई लामा की पुस्तक 'ट्रांसफॉरमिंग द माइंड'  से उद्धृत है।

 

 

नवीनतम समाचार

साउथ एशिया हब ऑफ द दलाई लामा सेंटर फॉर द एथिक्स का भूभंजक समारोह और सार्वजनिक व्याख्यान
12 फ़रवरी 2017
हैदराबाद, तेलंगाना, भारत, फरवरी १२, २०१७ - आज प्रातः परम पावन दलाई लामा हैदराबाद में एक तेज गति की मोटर गाड़ी की यात्रा के बाद हिटेक्स रोड, माधापुर पहुँचे, जहाँ दलाई लामा सेंटर फॉर द एथिक्स को साउथ एशिया हब का निर्माण होना है।

परम पावन दलाई लामा का राष्ट्रीय पुलिस अकादमी के प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधन
February 11th 2017

राष्ट्रीय महिला संसद के उद्घाटन में सम्मिलित
February 10th 2017

परम पावन दलाई लामा का कान्वेंट ऑफ जीसस एंड मेरी कॉलेज के छात्रों व शिक्षकों को संबोधन
February 8th 2017

विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन में प्राचीन भारतीय सोच पर व्याख्यान
February 8th 2017

खोजें