साल्ट लेक सिटी में अंतिम दिन और बोल्डर में आगमन

परम पावन दलाई लामा के साल्ट लेक सिटी की चार दिवसीय यात्रा के अंतिम दिन और बोल्डर में उनके आगमन के चित्र
View

साल्ट लेक सिटी में अंतिम दिन और बोल्डर में आगमन

स्वागत

परम पावन चौदहवें दलाई लामा कार्यालय के आधिकारिक वेबसाइट में स्वागत। परम पावन तिब्बतीयों के सर्वोच्च आध्यात्मिक गुरु हैं। वे प्रायः कहते हैं कि उनका जीवन तीन प्रतिबद्धताओं से निर्देशित है: आधारभूत मानवीय जीवन मूल्यों का विकास अथवा मानवीय सुख के लिए धर्मनिरपेक्ष नैतिकता, धर्मों के बीच समन्वय की भावना और तिब्बती समुदाय के कल्याण का पोषण, जिस में उनकी अस्मिता, संस्कृति तथा धर्म पर केन्द्रितकर उन्हें जीवंत रखना।

यहाँ खोजें कि किस प्रकार परम पावन अपनी प्रतिबद्धताओं को अपनी विभिन्न गतिविधियों, अपने सार्वजनिक वक्तव्यों, व्यापक अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं तथा प्रकाशनों से पूरा करते हैं।


 

News RSS Feedनवीनतम समाचार

महापौरों के अमरीकी सम्मेलन को संबोधित करने से पहले लेडी गागा द्वारा साक्षात्कार महापौरों के अमरीकी सम्मेलन को संबोधित करने से पहले लेडी गागा द्वारा साक्षात्कार
June 27th 2016
इंडियानापोलिस, इन, संयुक्त राज्य अमेरिका, २६ जून २०१६- संयुक्त राज्य अमेरिका की अपनी वर्तमान यात्रा के अंतिम दिन परम पावन दलाई लामा को महापौरों की अमरीकी सम्मेलन की ८४वीं वार्षिक बैठक में अध्यक्षीय भाषण देने हेतु आमंत्रित किया गया था। जे डब्ल्यू मैरियट होटल में आगमन पर उनका स्वागत सम्मेलन के अध्यक्ष बाल्टीमोर के महापौर स्टेफ़नी रॉलिंग्स ने किया।

शिक्षा में धर्मनिरपेक्ष नैतिकता पर विचार विमर्श और एक सार्वजनिक व्याख्यान - कम्पेशन एस ए पिलर ऑफ वर्ल्ड पीस
June 26th 2016

परम पावन दलाई लामा की कोलोराडो और न्यू मैक्सिको के तिब्बतियों के साथ भेंट
June 25th 2016

चित्त शोधन के अष्ट पद तथा हृदय और चित्त को शिक्षित करना
June 24th 2016

 

कार्यक्रम


वर्षगांठ  समारोह ,  जुलाई ६ , मुंडगोड ,  कर्नाटक , भारत:  परम  पावन  प्रातः  डेपुंग  महाविहार  में  गेलुग आयोजन  समिति  की  ओर  से  आयोजित  परम पावन दलाई  लामा  के  ८०वें  वर्ष भर  के  जन्मदिन  समारोह  के  समापन  समारोह  में भाग लेंगे ।

 प्रवचन,  जुलाई १३,  रिवलसर (छो पेमा),  हिमाचल प्रदेश,  भारतः  परम पावन  मध्याह्न  में  जा  पाटुल रिनपोछे   की  कथा  जो  आदि,  मध्य  तथा अंत  में कल्याणः दर्शन, भावना और आचरण संतों के अनुष्ठान हृदय मणि का प्रवचन देंगे।

प्रवचन, अगस्त १२ और १३, लेह, लद्दाख, जम्मू-कश्मीर, भारत: अगस्त १२   को  परम पावन  ठिगसे विहार  में अतीश के बोधिपथप्रदीप  और  नागार्जुन  के   बोधिचित्तविवरण  पर  प्रवचन  देंगे।  अगस्त १३ की प्रातः परम पावन ठिगसे विहार में दीर्घायु अभिषेक प्रदान करेंगे और उनके लिए दीर्घायु प्रार्थना समर्पित की जाएगी। 

 

 
 

खोजें