दीर्घायु प्रार्थना समर्पण समारोह

परम पावन दलाई लामा के लिए नमज्ञल विहार के वर्तमान और पूर्व सदस्यों द्वारा परम पावन दलाई लामा के निवास पर आयोजित दीर्घायु प्रार्थना समर्पण समारोह के चित्र, धर्मशाला, हिमाचल प्रदेश, भारत - फरवरी २४, २०१५
View

दीर्घायु प्रार्थना समर्पण समारोह

स्वागत

परम पावन चौदहवें दलाई लामा कार्यालय के आधिकारिक वेबसाइट में स्वागत। परम पावन तिब्बतीयों के सर्वोच्च आध्यात्मिक गुरु हैं। वे प्रायः कहते हैं कि उनका जीवन तीन प्रतिबद्धताओं से निर्देशित है: आधारभूत मानवीय जीवन मूल्यों का विकास अथवा मानवीय सुख के लिए धर्मनिरपेक्ष नैतिकता, धर्मों के बीच समन्वय की भावना और तिब्बती समुदाय के कल्याण का पोषण, जिस में उनकी अस्मिता, संस्कृति तथा धर्म पर केन्द्रितकर उन्हें जीवंत रखना।

यहाँ खोजें कि किस प्रकार परम पावन अपनी प्रतिबद्धताओं को अपनी विभिन्न गतिविधियों, अपने सार्वजनिक वक्तव्यों, व्यापक अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं तथा प्रकाशनों से पूरा करते हैं।


 

News RSS Feedनवीनतम समाचार

चित्त शोधन के लिए अष्ट पद से संबंधित बौद्ध प्रवचन चित्त शोधन के लिए अष्ट पद से संबंधित बौद्ध प्रवचन
February 12th 2015
कोपेनहेगन, डेनमार्क - १२ फरवरी २०१५ - परम पावन दलाई लामा की आज प्रातः की पहली बैठक का केंद्र संसद में मौजूद सभी आठ दलों का प्रतिनिधित्व करते डेनिश सांसदों का एक समूह था। उन्होंने उनका अभिनन्दन करते हुए कहा ः "१९७३ में, मैं यूरोप के लिए अपनी पहली यात्रा पर जाने के लिए तैयार था, तो बीबीसी के संवाददाता मार्क टली ने मुझसे पूछा कि मैं क्यों जा रहा हूँ और मैंने उनसे कहा कि यद्यपि मैं एक शरणार्थी था पर मैं अपने आपको विश्व का नागरिक मानता हूँ।

करुणा तथा जुडाव द्वारा शक्ति (स्ट्रेंग्थ थ्रू कम्पेशन एंड कनेक्शन)
February 12th 2015

ट्रॉनहैम से कोपेनहेगन तक के तिब्बतियों और बौद्धों से भेंट
February 11th 2015

ट्रॉनहैम में अंतर्राष्ट्रीय विद्यार्थी समारोह में अतिथि
February 10th 2015

 

कार्यक्रम


दीर्घायु प्रार्थना समारोह, ४ मार्च, धर्मशाला, हिमाचल प्रदेश, भारत
परम पावन दलाई लामा के लिए, बेल्जियम तिब्बती संगठन, छिड्रेल छोगपा, धासा छोंपा समुदाय, ल्हासा समुदाय और ल्होका समुदाय द्वारा मुख्य तिब्बती मंदिर में प्रातः एक दीर्घायु प्रार्थना समारोह समर्पण करेंगे।

प्रवचन, ५ मार्च, धर्मशाला, हिमाचल प्रदेश, भारत
परम पावन मुख्य तिब्बती मंदिर में प्रातः जातक कथाओं से एक लघु प्रवचन देंगे।

प्रवचन, १२ और १३ अप्रैल, टोक्यो, जापान
परम पावन पूर्व एशिया के संपर्क कार्यालय द्वारा शोवा जोशी हितोमी सभागार में आयोजित हृदय सूत्र तथा नागार्जुन के बोधिचित्त विवरण पर प्रवचन देंगे और अवलोकितेश्वर दीक्षा प्रदान करेंगे। सम्पर्क वेबसाइट: www.tibethouse.jp

 
 

खोजें