सीधा वेबप्रसारणः महान १८ पथक्रम (लमरिम) की टीकायें

परम पावन दलाई लामा के महान १८ पथक्रम (लमरिम) की टीकाओं पर लगातार प्रवचन का सीधा वेबप्रसारण, गदेन महाविहार, मुंडगोड, कर्नाटक, भारत से दिसम्बर २३ से २९ तक होगा। परम पावन तिब्बती में बोलेंगे जिसके अंग्रेज़ी, चीनी, िवयतनामी, हिन्दी, रूसी तथा मंगोिलयायी अनुवाद उपलब्ध होंगे।
View

सीधा वेबप्रसारणः महान १८ पथक्रम (लमरिम) की टीकायें

स्वागत

परम पावन चौदहवें दलाई लामा कार्यालय के आधिकारिक वेबसाइट में स्वागत। परम पावन तिब्बतीयों के सर्वोच्च आध्यात्मिक गुरु हैं। वे प्रायः कहते हैं कि उनका जीवन तीन प्रतिबद्धताओं से निर्देशित है: आधारभूत मानवीय जीवन मूल्यों का विकास अथवा मानवीय सुख के लिए धर्मनिरपेक्ष नैतिकता, धर्मों के बीच समन्वय की भावना और तिब्बती समुदाय के कल्याण का पोषण, जिस में उनकी अस्मिता, संस्कृति तथा धर्म पर केन्द्रितकर उन्हें जीवंत रखना।

यहाँ खोजें कि किस प्रकार परम पावन अपनी प्रतिबद्धताओं को अपनी विभिन्न गतिविधियों, अपने सार्वजनिक वक्तव्यों, व्यापक अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं तथा प्रकाशनों से पूरा करते हैं।


 

News RSS Feedनवीनतम समाचार

नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं के १४वें विश्व शिखर सम्मेलन का समापन सत्र नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं के १४वें विश्व शिखर सम्मेलन का समापन सत्र
December 15th 2014
रोम, इटली - १४ दिसंबर २०१४ - आज नोबेल शांति पुरस्कार विजेता रोम के कैपिटल हिल पर गिउलिओ सभागार में अपने १४वें विश्व शिखर सम्मेलन के अंतिम सत्र के लिए एकत्रित हुए थे। कार्यवाही का प्रारंभ नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं के विश्व शिखर सम्मेलन के स्थायी सचिवालय की अध्यक्षा एकातेरिना ज़गलादिना द्वारा राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव की ओर से प्रेषित संदेश पाठ से हुआ।

नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं के १४ वें विश्व शिखर सम्मेलन का दूसरा दिन
December 14th 2014

शांति - जीते हुए। नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं का १४वाँ विश्व शिखर सम्मेलन
December 13th 2014

परम पावन दलाई लामा का नोबेल शांति पुरस्कार विजेताओं के विश्व शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए रोम आगमन
December 12th 2014

 

कार्यक्रम


प्रवचन, दिसम्बर २३ से २९ तक, मुंडगोड, कर्नाटक, भारत
परम पावन श्रद्धेय लिंग छोगटुल रिनपोछे और गदेन शरचे महाविहार के अनुरोध पर मुंडगोड में (आयोजन स्थल का निश्चय होना है) महान १८ पथक्रम (लमरिम) की टीकाओं पर अपना प्रवचन जारी रखेंगे।
संपर्क वेबसाइटें: http://www.jangchuplamrim.org और http://www.jangchuplamrim.com

प्रवचन, फरवरी १ व २, संकिसा, उत्तर प्रदेश, भारत
परम पावन भारत की युवा बौद्ध समाज (YBS) द्वारा आयोजित धम्मपद पर आधारित दो दिवसीय बौद्ध प्रवचन देंगे।
संपर्क ईमेल: hhdlteachingsankisa@gmail.com

प्रवचन, फरवरी ७ और ८, बेसल, स्विट्जरलैंड

परम पावन सेंट जेकबशैले में स्विट्जरलैंड और लिकटेंस्टीन के तिब्बती समुदाय द्वारा आयोजित नागार्जुन की बोधिचित्त की व्याख्या, गेशे लंगरी थंगपा के चित्त शोधन की अष्ट कारिका पर आधारित एक बौद्ध प्रवचन देंगे तथा अवलोकितेश्वर की दीक्षा भी प्रदान करेंगे। संपर्क वेबसाइट: www.dalailama2015.ch
 


 
 

खोजें